💰मुद्रा क्या है ? मुद्रा के कार्य?💰

मुद्रा शब्द की उत्पत्ति अंग्रेजी money से हुई है और money लैटिन भाषा के moneta से उत्पन्न हुआ और moneta 'देवी जूनो' का दूसरा नाम है जिसका अर्थ है "सुख देने वाली" । इसलिए मुद्रा को "moneta" भी कहा जाता है ।

"मुद्रा(करंसी) एक मानक या इकाई है जिसके माध्यम से हम लेन - देन , मूल्यों का संचय तथा ऋणों के अंतिम भुगतान के रूप में स्वीकार किया जाता है।" प्रत्येक देश की अलग - अलग मुद्राएं होती हैं । उदाहरण के तौर पर - भारत की मुद्रा ' रुपया ' , जापान की 'येन ' , यू एस ए की 'डॉलर ' , ब्रिटेन की ' पाउंड ' । इसी प्रकार अन्य देश की भी मुद्राएं होती हैं । जिनकी अपनी एक मानक वैल्यू होती हैं ।
प्रत्येक देश की मुद्रा सरकारी मान्यता प्राप्त होती हैं । इस समय किसी भी देश की मुद्रा की वैल्यू 'यू एस ए डॉलर ' में मापी जाती हैं ।
                         

                                        मुद्रा के कार्य

• विनिमय का माध्यम ( Medium of exchange)
• मूल्य की माप -- किसी वस्तु का मूल्य निकालना ।
• मानक देय ( standard of payments)
• मूल्य का संग्रहण ( store of value )
उपर्युक्त चार मुद्रा के मुख्य कार्य हैं।
                           

0/Post a Comment/Comments

Please read this site and then comments

Stay Conneted