💰💰विश्व बैंक और अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष💰💰






विश्व बैंक और अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष   को यू.एस.ए. में ही  क्यों  बनाया  गया  ?
इनके  बनाने के पीछे उद्देश्य क्या थे ?

तो आइए जानते हैं-
         ये दो कारण महत्वपूर्ण हैं -
  •  प्रथम और द्वितीय विश्व युद्ध के बाद या कह सकते हैं इसके दौरान पहली दुनियां  के लोगो को  यह महसूस हुआ कि  इस world war(first+second) के  दौरान कई देश बरबाद हो गए तो कई  आर्थिक  तौर पर दिवालिया हो गए या होने के कगार पर थे ।
  • आर्थिक अस्थिरता चरम पर थी ।
               
    यू.एस.ए. में बनाए जाने के पीछे सबसे बड़ा कारण यू. एस. ए. का सुपर पॉवर बनना ।


ब्रेटन वुड्स सम्मेलन  (Bretton Woods Conference)


  •  इन दोनों ही संस्थाओं की स्थापना १९४५ में अंतर सरकरी (intergovernmental institution) के रूप में  हुआ ।
  • इसलिए इन दोनों संस्थाओं को जुड़वा बहन(twin sister) के नाम से भी जाना जाता हैं।
वास्तव में विश्व बैंक को  (IBRD- International bank of reconstruction and developments)  अन्तर्राष्ट्रीय पुनर्निर्माण और विकास बैंक के रूप में स्थापित किया गया जिसे बाद में विश्व बैंक का हिस्सा बना दिया गया । विश्व बैंक में कुल पांच संस्थाएं शामिल है।
इन दोनों संस्थाओं का मुख्यालय वाशिंगटन डी सी में हैं।

                                                      उद्देश्य

         I.M.F.(International Monetary Fund)
  1. अन्तर्राष्ट्रीय मौद्रिक सहयोग को बढावा देना।
  2.  बहुपक्षीय भुगतान प्रणाली की स्थापना करना ।
  3. विनिमय दर में स्थिरता बनाए रखना ।
  4. वैश्विक अर्थव्यवस्था और वित्तीय क्षेत्र पर निगरानी रखना ।
कार्य - 
  • BOP (BALANCE OF PAYMENTS) सुधार हेतु कम अवधि का ऋण उपलब्ध कराना ।
  • आर्थिक मुद्दों हेतु एक मंच प्रदान करता है ।
  • तकनीकी सहायता भी देता है और ट्रेनिंग भी ।
रिपोर्ट्स- 
              दो रिपोर्ट्स भी जारी करता हैं-
  1. ग्लोबल स्टेबिलिटी रिपोर्ट्स।
  2. वर्ल्ड इकोनॉमिक आउटलुक।                              

                         दोनों संस्थाओं के कार्यों में अंतर

  • विश्व बैंक नीति सुधार कार्यक्रमो और परियोजनाओं के लिए ऋण आवंटित करता है जबकि आई. एम. एफ. केवल नीति सुधार हेतु ही ऋण प्रदान करता है ।
  • विश्व बैंक सामान्यतः सिर्फ विकासशील देशों को ऋण देता है जबकि आई. एम.एफ. विकसित और विकासशील दोनों को ।
  • विश्व बैंक द्वारा दिए गए धन पर ब्याज नहीं लगता जबकि आई. एम.एफ. ब्याज सहित उधारी वसूलता हैं ।
आई.एम.एफ. के सदस्यता और वोटिंग अधिकार हेतु ट्रांस शुल्क के रूप में जमा किया जाता है जबकि विश्व बैंक के सदस्यता हेतु ऐसा कुछ नहीं ।


                                                    ______________

0/Post a Comment/Comments

Please read this site and then comments

Stay Conneted