🔎Challenger Deep🔍


अभी हाल ही में अंतरिक्ष और समुद्र वैज्ञानिक कैथी सुलीवान चैलेंजर गर्त में पहुंचने वाली दुनिया की पहली महिला का खिताब अपने नाम के साथ विश्व कि पांचवीं इन्सान भी बन गई है। अर्थात् कैथी सुलिवान चैलेंजर गर्त में जाने वाली विश्व की पहली महिला और यहां पहुंचने वाली पांचवीं इन्सान बन गई है।


आपको बता दे की चैलेंजर गर्त दुनियां की रोमांचित करने वाले स्थानों में से एक हैं अमेरिकी संस्था नेशनल ओशनिक एंड एटमॉस्फेरिक एडमिनिस्ट्रेशन के मुताबिक प्रशांत महासागर में स्थित सबसे गहरा स्थान मेरियाना गर्त से करीब 200 किमी. पूर्व की ओर स्थित चैलेंजर डीप अब तक की ज्ञात सबसे गहरा स्थान है। 

सामान्यतः समुद्रों की गहराई करीब 12000 फीट होती है जबकि चैलेंजर डीप की गहराई 36200 फीट (11033 मीटर ) है। इसकी ऊंचाई इतनी ज्यादा है कि इसमें पूरा का पूरा एवरेस्ट पर्वत समा सकता है जो की समुद्र तल से करीब 1.6 किमी नीचे होगा। इसमें जाने के लिए ह्यूमन आक्युपाईड व्हीकल जैसे साधनों का उपयोग किया जाता है। इसके अलावा यहां पर मानव रहित रिमोट संचालित वाहनों का प्रयोग किया जाता है।

दरअसल इसकी खोज 1872-76 के दौरान ब्रिटिश शीप एच एम एस चैलेंजर ने कि थी। 1960 में लेफ्टिनेंट डॉन वाल्श और जैकस पिकॉर्ड ने चैलेंजर डीप में गोता लगाने वाले पहले इन्सान बन गए।

आपको बताते चले कि कैथी सुलिवन लिमिटिंग फैक्टर समर्सिबल के जरिए अपनी यात्रा पूरी की को की रिंग आफ फायर अभियान का ही एक हिस्सा था। कैथी ने 1978 में नासा ज्वाइन किया तथा 11 अक्टूबर 1984 को अंतरिक्ष में चहलक़दमी करने वाली पहली महिला बन गई। इसी समय हबल टेलिस्कोप ऑब्जर्वेटरी को लॉच किया गया जो कि तीस सालों से लगातार अंतरिक्ष के चक्कर काट रहा है।

एक और बात चैलेंजर डीप महाद्वीप के दो प्लेटो के बीच में स्थित है।

धन्यवाद!!

0/Post a Comment/Comments

Please read this site and then comments

Stay Conneted